NAPUNSAKTA MITANE KE LIYE. स्वप्नदोष व शीघ्र-स्खलन जैसी समस्याओं के लिए, सबसे कामयाब उपाय!

इस प्रयोग से नपुंसक भी बन जाते हैं 'मर्द, स्वप्नदोष व शीघ्र-स्खलन जैसी समस्याओं के लिए यह है सबसे कामयाब उपाय!

https://www.paltuji.com
https://www.paltuji.com 
     स्वप्नदोष, शीघ्रपतन, जैसी समस्याओं से आज लगभग सभी वर्ग के पुरुष पीड़ित हैं। इस समस्या के निवारण हेतु बाजार में अंग्रेजी दवाएँ बहुत बड़ी तादात में उपलब्ध हैं। स्वभावत: यह दवाएँ प्रभावी तो होती हैं लेकिन इनके जो दुष्परिणाम होते हैं वे बड़े ही घातक होते हैं। कभी-कभी इनका अधिक सेवन व्यक्ति को नपुंसक तक बना देता है।

      प्रायः यह देखा गया है कि यदि कोई पुरुष विगोरा, मैनफोर्स जैसे टैब्लेट नियमित रूप से दो-तीन सप्ताह तक ले ले, तो उसके भीतर नपुंसक होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है, या वह नपुंसक ही हो जाता है। आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में ऐसे बहुत से प्रयोग हैं जो इस बिमारी को जड़ से समाप्त करने की क्षमता रखते हैं और जिनका कोई दुष्परिणाम भी नहीं होता है।

यह प्रयोग स्त्री व पुरुष दोनों के लिए ही उपयोगी है!

https://www.paltuji.com
https://www.paltuji.com 
      इस प्रयोग को स्त्रियाँ भी कर सकती हैं और पुरूष भी कर सकते हैं। एक वर्क्ष होता है बबूल जिसे पुरानी भाषा में 'कीकर, भी बोला जाता है। इस बबूल पेड़ की नरम-नरम छाल अर्थात बक्कल चाकू या अन्य किसी औजार की सहायता सेे उखााड़ लाएं, और पांच-सात पके नींबूओं का रस एक स्वच्छ पात्र में निकाल लें, और फिर उस बक्कल को इस रस में डुबो दें! यह प्रयोग किसी भी दिन संध्या के समय करें, रात भर बक्कल को नींंबू के रस में डूबा रहने दें, सुबह एक स्वच्छ वस्त्र उसी पात्र में डाल दें, ध्यान रखें जब यह वस्त्र पूरी तरह भीग जायेगा तब इसका रंग धुएं जैसा नजर आयेगा। 

https://www.paltuji.com
https://www.paltuji.com 
इस वस्त्र का प्रयोग कैसे करें? 

     यदि कोई ऐसी स्त्री है जो अपनी 'भग, के ढीलेपन की वजह से बहुत परेशान है और तमाम तरह की दवाई-दरमत करने के बाद भी मन में सतुंष्टि नहीं है तो वह स्त्री यदि इस कपडे़ को प्रति-रात्रि अपनी भग में रखकर तीन सप्ताह तक सोयेगी तो निश्चित ही इस प्रयोग से उसकी भग पुन: यौवन को प्राप्त कर लेगी अर्थात संकुचित हो जाएगी। इस प्रयोग में किसी भी प्रकार की मैथुन क्रिया वर्जित है। 

https://www.paltuji.com
https://www.paltuji.com 
    पुरुषों के लिए: जब कपड़ा भीग चुका हो और इसका रंग धुएं जैसा प्रतीत होने लगे तब इस वस्त्र को पात्र में से निकाल लें और एक गिलास दूध में इसे धोकर निचोड़ दें, और तत्पश्चात इस दूध को पी जाएं, यह प्रयोग प्रतिदिन सुबह करें, और उस कपड़े को रात अपनी काम-इंद्रिय पर लपेटकर सो जाएं! मात्र दो-तीन सप्ताह ही यह प्रयोग कर लेने से इंद्रिय कठोर और सीधी हो जाती है और वीर्य का पतलापन, नपुंसकता व शीघ्र-स्खलन जैसी परेशानियां भी सदा-सदा के लिए समाप्त हो जाती है। 

https://www.paltuji.com
https://www.paltuji.com 



Previous
Next Post »