एलिजाबेथ टेलर, जिसके पास संपत्ति का अंबार था, जिसके पास अनगिनत कारें थीं, जहाज और हवाई-जहाज थे।

     
https://www.paltuji.com/
practical life
यह जिंदगी है विश्व विख्यात अभिनेत्री और स्वर्ग की अप्सराओं से भी अधिक सुंदर एलिजाबेथ टेलर की। एलिजाबेथ टेलर का जन्म 27, फरवरी 1932 को हैम्पस्टेड गार्डन लंदन में हुआ था। 

      यह जिंदगी उस महिला की है जिसके पास संपत्ति का अंबार था, जिसके पास अनगिनत कारें थीं, जहाज और हवाई-जहाज थे। स्विटजरलैंड में शानदार बंगला था, मैक्सिको में एक महल भी था, लॉस एंजिल्स में उसके पास एक शानदार अपार्टमेंट था और लंदन में एक बेमिसाल कोठी थी। संसार के सभी होटलों में उसके लिए कमरे बुक रहते थे उसके पास दुनिया के सबसे कीमती हीरे-जवाहरात थे उसके पास सत्तर कैरेट का एक ऐसा हीरा था जिसे उसने करीब दस लाख डॉलर में बेचा था। अपने लिए वह जिससे ड्रेस डिजाइन करवाती थी उसे उसने सख्त हिदायत दी थी कि जैसी डिजाइन की पोशाकें वह उसके लिए तैयार करता है वैसी डिजाइन की पोशाकें कोई दूसरा न पहने दिखाई पड़े। उसे शानदार कीमती कपड़े और हीरे जवाहरातों से जड़े जेवर पहनने का बड़ा शौक था उसके कपड़े पैरिस के प्रसिद्ध ड्रेस डिजाइनर डिपी नाम के व्यक्ति द्वारा डिजाइन किये जाते थे।

      जी हाँ! यह जिंदगी है विश्व विख्यात अभिनेत्री और स्वर्ग की अप्सराओं से भी अधिक सुंदर एलिजाबेथ टेलर की। एलिजाबेथ टेलर का जन्म 27, फरवरी 1932 को हैम्पस्टेड गार्डन लंदन में हुआ था। जब वह केवल बारह वर्ष की थी तभी लक्स साबुन के प्रचार के लिए उसे चुन लिया गया था। इस काम के लिए उसे लक्स निर्माताओं की तरफ से हर साल करीब तीस  हजार डॉलर दिए जाते थे। तेरह साल की कम उम्र में ही उसे अपने सौंदर्य और यौवन का अहसास होने लगा था। तभी से वह यौन संबंधों की तरफ आकर्षित भी होने लगी थी। दुनियां भर की खूबसूरत महिलाएं जिन मर्दों पर मरा करती थीं वे सब एलिजाबेथ टेलर पर ही मरने लगे थे। उसे अपने जीवन में रोमांस और रोमांच बेहद पसंद था।

     चौदह साल की उम्र में वह फिल्मों में काम करने लगी थी। 15 वर्ष की आयु में उसे हाॅलीवुड ने सर्वांग सुंदरी घोषित कर दिया था। वह जिससे भी मोहब्बत करती थी उसे अपना गुलाम बना लेती थी। उसने अपने जीवन में आधा दर्जन से भी अधिक मर्दों के साथ विवाह रचाया था। 

      पहला विवाह उसने 18, वर्ष की उम्र में कॉनराड हिल्टन जूनियर से रचाया था। उस समय वह हिल्टन पर दिलोजान से फिदा थी उसके लिए हिल्टन ही वह पहला शख्स था जिसने उसके ह्रदय में छुपे प्रेम की भावनाओं को रोमांचित किया था, वह उसे अपने उमड़ते यौवन का सरताज बनाने के लिए बेकरार थी।

https://www.paltuji.com/
practical life
      लेकिन कहते हैं न विवाह से पूर्व प्यार का तूफान जितनी शीघ्रता से चढ़ता है उतनी ही शीघ्रता से विवाह के पश्चात उतर भी जाता है। विवाह के कुछ दिन बाद ही एलिजाबेथ को लगने लगा था कि जूनियर हिल्टन ने उससे विवाह करके उस पर अहसान किया है। एक रात खाने की मेज पर उसके मन की भड़ास बाहर आ गयी। उसने मेज पर रखी प्लेटें और बर्तन तोड़ने और फेंकने शुरूं कर दिए और पति हिल्टन को एक जोरदार तमाचा भी जड़ दिया। उसी रात से पति-पत्नी अलग-अलग रहने लगे। जिसका परिणाम यह हुआ कि विवाह के कुछ माह बाद ही दोनों का तलाक हो गया।

     जैसे ही एलिजाबेथ टेलर हिल्टन से अलग हुई वैसे ही उसने 'माइकल वाईल्डिंग, से दूसरा विवाह कर लिया। जब उससे पूछा गया कि उसने माइकल विल्डिंग से शादी क्यों की तो उसने कहा कि माइकल एक सभ्य, सुसंस्कृत व आकर्षक व्यक्तित्व का मालिक है। परंतु एलिजाबेथ और माइकल वाईल्डिंग का यह रिश्ता ज्यादा दिन तक नहीं टिक सका। जल्द ही एलिजाबेथ ने माइकल के बारे में भला-बुरा बड़बड़ाना शुरूं कर दिया। वह माइकल को अजगर व गधा कहकर बुलाने लगी और कहने लगी कि इस आदमी के साथ गुजारा करना बड़ा ही मुश्किल काम है। उसने माइकल वाईल्डिंग से तलाक ले लिया।

      पांच साल बाद माइक टाॅड उसकी जिंदगी में आया। माइक टाॅड हाॅलीवुड इंडस्ट्री का एक जाना-माना अभिनेता था। माइक टाॅड से भी उसने बिना सोंचे समझे ही विवाह कर डाला था। माइक ने उसे वह सब कुछ दिया जिसकी उसे तलाश थी। माइक ने स्यमं को उसके स्वभाव के अनुकूल बना लिया। एलिजाबेथ भी माइक टाॅड का गुणगांन करते नहीं थकती थी। आमतौर से एलिजाबेथ जैसी मानसिकता वाली औरतों का सच यह है कि वे अपने पति को गुलाम बना कर रखना चाहती हैं लेकिन वह पूर्ण समर्पण भाव से माइक टाॅड के साथ रहने लगी थी जो किसी चमत्कार से कम न था।

माइक टाॅड कौंन था?

       माइक टाॅड एक प्रसिद्ध अभिनेता, निर्माता व निर्देशक था। उसका जन्म शिकागो शहर की एक मलिन बस्ती में हुआ था। अपनी मेहनत व काबिलियत के दम पर उसने यह प्रसिद्धी हासिल की थी और संपत्ति का अंबार खड़ा किया था। उसके जीवन में एक ऐसा भी क्षण आया जब उसकी एक फिल्म की असफलता ने उसे कंगाल कर दिया। लेकिन उसने हार नहीं मानी क्योंकि उसके भीतर जज्बा कूट-कूटकर भरा था और जनता भी उसके अभिनय की दीवानी थी। उसकी इस असफल फिल्म के बाद दूसरी फिल्म बनाने के लिए उसके पास पर्याप्त धन नहीं था। लेकिन उसके सहयोगियों व चाहने वालों ने उसकी भरपूर मदत की जिससे वजह से उसकी महत्वाकांक्षी फिल्म 'एराउंड दी वर्ल्ड इन एंट्रीन डेज, बनकर तैयार हो गयी। इस फिल्म में एलिजाबेथ टेलर ने भी काम किया था।

https://www.paltuji.com/
practical life
      इस फिल्म की शूटिंग के दौरान ही माइक और एलिजाबेथ के बीच प्रेम का आगाज हुआ था। बाद में दोनों ने विवाह कर लिया। उसी साल अगस्त में एलिजाबेथ ने माइक टाॅड की बेटी को जन्म दिया जो महज सात माह में ही जन्मी थी। इस प्रसव से एलिजाबेथ बहुत कमजोर हो गयी थी उसकी इस दशा से माइक बहुत दुखी था और प्रार्थना करता था कि वह जल्दी स्वस्थ हो जाय। धीरे-धीरे वह स्वस्थ भी हो गयी। इन्हीं दिनों माइक की फिल्म 'एराउंड दी वर्ल्ड इन एंट्रीन डेज, ने भी धमाल मचाना शुरूं कर दिया। इस फिल्म ने माइक टाॅड को करोड़ों पौंड का मालिक बना दिया। यह फिल्म इतनी सफल थी कि इसे आस्कर पुरस्कार से सम्मानित किया गया जिससे माइक टाॅड की प्रसिद्धी और बढ़ गई।

      आॅस्कर आवर्ड  लेन के लिए माइक टाॅड अपने निजी विमान से अमेरिका के लिए रवाना हुए, एलिजाबेथ की तबीयत ठीक न होने के कारण वह साथ में न जा सकी। विमान में माइक और उनका सहयोगी और एक पायलट यही तीन लोग सवार थे। दुर्भाग्य से विमान रास्ता भटक गया। रात दो बजकर तीस मिनट पर ग्रांटस हवाई अड्डे को माइक का संदेश मिला, संदेश में माइक ने कहा था कि वह मुसीबत में है, उसके आधे घंटे बाद ही विमान में आग लग गई। 

https://www.paltuji.com/
practical life
      सुबह चार बजे के करीब खोजी दस्ते द्वारा विमान का मलबा खोजा गया। और उसमें से माइक के अलावा दो और लोगों के अधजले शव निकाले गए। सुबह होते-होते यह खबर आग की तरह फैल गई। जब एलिजाबेथ को अखबारों के माध्यम से यह जानकारी मिली तो वह सन्न रह गई उसे भरोसा ही नहीं हो रहा था कि माइक के साथ कोई दुर्घटना हुई है। वह माइक को दिल से प्रेम करती थी और माइक भी उसे बेइंतहा चाहता था। इस दुर्घटना से एलिजाबेथ बुरी तरह टूट गई थी उसने अभी माइक की बाहों में सिर्फ चौदह मास ही बिताए थे, वह ताउम्र उसके सीने से लिपटकर जीना चाहती थी लेकिन अब माइक यह संसार छोड़ चुका था।

      एक अजीब संयोग, चौदह मास तक माइक के साथ जीवन बिताने के बाद जिस तरह एलिजाबेथ के विवाहित जीवन का अंत हुआ ठीक उसी तरह चौदह मास बाद 'रिचर्ड बर्टन, नाम का शख्स उसकी जिंदगी में दाखिल हुआ वह भी फिल्म इंडस्ट्री का ही एक सितारा था।.......... अगले भाग में आगे पढ़ें!







Previous
Next Post »